यूपी एवं उत्तराखंड

कल आसन पर विराजेंगे रामलला, 22 को खुलेगी मूर्ति की आंखों पर बंधी पट्टी

यूपी : रामलला के प्राण प्रतिष्ठा के अनुष्ठान का आज दूसरा दिन है। अयोध्या में भगवान श्रीरामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए अनुष्ठान मंगलवार से प्रारंभ हुआ। रामलला की प्रतिमा 18 जनवरी को गर्भगृह में निर्धारित आसन पर स्थापित कर दी जाएगी। पिछले 70 वर्षों से पूजित वर्तमान प्रतिमा को भी नए मंदिर के गर्भगृह में ही रखा जाएगा। 22 जनवरी को अयोध्या में रामलला मंदिर में विराजमान होंगे। इस दिन प्राण प्रतिष्ठा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल होंगे।

बॉलीवुड के साथ दक्षिण भारत की फिल्मी हस्तियों को न्योता : बॉलीवुड के साथ दक्षिण भारत की कई जानी-मानी फिल्मी हस्तियां भी रामलला की प्राण प्रतिष्ठा में नजर आएंगी। दक्षिण भारत के कई राज्यों के रहने वालों की भगवान राम के प्रति विशेष आस्था को देखते हुए रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से इन्हें निमंत्रण दिया गया है। इनमें प्रमुख रूप से पूरे भारत में पहचान रखने वाले चेहरों को चयनित किया गया है। दक्षिण के जिन बड़े नामों को आमंत्रण दिया गया है उनमें रजनीकांत, चिरंजीवी, प्रभास, धनुष और मोहन लाल शामिल हैं।

चंपत राय ने तैयारियों की लिया जायजा : श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय ने श्री राम मंदिर परिसर के आस-पास तैयारियों का निरीक्षण किया।

प्राण प्रतिष्ठा में 54 देशों के 100 प्रतिनिधि होंगे रामलला के मेहमान : भव्य मंदिर में रामलला के नवीन विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा में देश की नामचीन हस्तियों के साथ 54 देशों के 100 प्रतिनिधि भी खास मेहमान होंगे। रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने अमेरिका, ब्रिटेन, आस्ट्रेलिया, मॉरिशस समेत कई यूरोपीय, अफ्रीकी व बौद्ध देशों के अतिथियों को आमंत्रित किया है। संघ परिवार और विहिप की अंतरराष्ट्रीय शाखाओं के शीर्ष पदाधिकारी भी समारोह में शिरकत करने आएंगे। रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और विश्व हिंदू परिषद के समन्वय से 22 जनवरी के भव्य आयोजन को इतिहास में दर्ज कराने की तैयारी की है।

‘ये भारत के गौरव की प्राण प्रतिष्ठा का क्षण है’ : राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह पर श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने कहा, “यह क्षण उन लोगों के लिए अवर्णनीय है जिन्होंने इसका सपना देखा था, जिन्होंने लंबे समय तक संघर्ष किया था। न केवल व्यक्तियों ने बल्कि लोगों ने इसके लिए अपनी पीढ़ियों का बलिदान दिया है। मैं समझता हूं कि ये पीढ़ियों के त्याग और समर्पण का परिणाम है। ये भारत के गौरव की प्राण प्रतिष्ठा का क्षण है।”

सात दिनों तक यजमान की भूमिका में रहेंगे डॉ. अनिल मिश्र : रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के मुख्य यजमान श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य डॉ.अनिल मिश्र हैं। यजमान के रूप में उन्होंने मंगलवार को प्रायश्चित पूजन में हिस्सा लिया। अब वे सात दिनों तक यजमान की ही भूमिका में रहेंगे।

प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले कर्मकांडी ब्राह्मणों ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सीएम योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, राममंदिर ट्रस्ट अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास, संघ प्रमुख मोहन भागवत और डॉ. अनिल मिश्र सपत्नीक मुख्य आयोजन के समय 22 जनवरी को उपस्थित रहेंगे। प्रधानमंत्री मोदी गर्भगृह में अपने हाथ से कुशा और श्लाका खींचेंगे। उसके बाद रामलला प्राण प्रतिष्ठित हो जाएंगे। इसके बाद पीएम मोदी भोग अर्पित करने के साथ ही आरती भी करेंगे।

NewsXpoz Digital

NewsXpoz Digital ...सच के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *