देश-विदेश

द्रौपदी मुर्मू करेंगी फ्रांसीसी राष्ट्रपति के सम्मान में राजकीय भोज की मेजबानी

नई दिल्ली : फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की भारत यात्रा पर विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने कहा, भारत और फ्रांस की द्विपक्षीय साझेदारी में जिन क्षेत्रों को प्राथमिकता दी जानी है, उस पर प्रमुखता से चर्चा की गई। विदेश सचिव ने बताया कि पीएम मोदी और फ्रांसीसी राष्ट्राध्यक्ष के बीच फोकस वाले क्षेत्रों के साथ-साथ क्षेत्रीय और वैश्विक स्तर पर दोनों देशों के हितों से जुड़े मुद्दों पर भी विस्तार से बातचीत हुई।

महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा के बाद राष्ट्रपति मैक्रों गणतंत्र दिवस परेड में बतौर मुख्य अतिथि शरीक हुए। 40 साल बाद गणतंत्र दिवस परेड में शामिल हुई खास बग्घी पर सवार होकर कर्तव्य पथ पहुंचे मैक्रों ने भारत की सैन्य ताकत के साथ-साथ सांस्कृतिक धरोहर की झलकियां भी देखीं।

स्वागत में पीएम मोदी का जयपुर दौरा खास घटना : विदेश मंत्रालय के मुताबिक शुक्रवार शाम राष्ट्रपति मैक्रों के सम्मान में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू रायसीना हिल्स पर स्थित राष्ट्रपति भवन में ‘एट होम सेरेमनी’ में भी मैक्रों का स्वागत करेंगी। राष्ट्रपति मुर्मू शाम को मैक्रों के सम्मान में राजकीय भोज का आयोजन भी करेंगी। उन्होंने बताया कि मैक्रों गुरुवार शाम राजस्थान की राजधानी जयपुर पहुंचे और खुद पीएम मोदी ने उनका स्वागत किया। ये आगवानी की दुर्लभ घटना रही जहां प्रधानमंत्री ने दूसरे राज्य में जाकर किसी राष्ट्राध्यक्ष की मेजबानी की।

मैक्रों और मोदी के बीच इस्राइल हमास युद्ध पर भी बात हुई : क्वात्रा ने कहा, राष्ट्रपति मैक्रों और पीएम मोदी के बीच भारत-फ्रांस द्विपक्षीय साझेदारी पर चर्चा के अलावा दुनिया के विभिन्न हिस्सों में हो रही अहम घटनाओं पर भी बातें हुईं। स्वाभाविक रूप से, गाजा में चल रहे संघर्ष और युद्ध के अलग-अलग आयामों के साथ-साथ आतंकी घटनाओं और मानवीय संकट पर भी बातें हुईं। 110 दिन से अधिक समय से जारी इस्राइल और हमास के हिंसक संघर्ष पर भी दोनों नेताओं ने अपने दृष्टिकोण साझा किए।

NewsXpoz Digital

NewsXpoz Digital ...सच के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *