मध्य प्रदेश एवं छत्तीसगढ़

पटाखा फैक्ट्री ब्लास्ट : अब तक 11 की मौत, 90 से अधिक घायल, पीएम ने जताया दुख

भोपाल : मध्य प्रदेश के हरदा में मगरदा रोड स्थित बैरागढ़ रेहटा में पटाखा फैक्टरी में मंगलवार सुबह आग लग गई। इसके बाद भयानक विस्फोट होने लगे। ब्लास्ट इतने तेज थे कि आसपास की इमारतों को भी उन्होंने हिला दिया। आग ने आसपास के घरों को भी अपनी चपेट में ले लिया। 11 लोगों की मौत हो गई है। इसमें नौ लोगों के मारे जाने की पुष्टि सीएमएचओ ने की है। यह आंकड़ा और भी बढ़ सकता है। 90 से अधिक घायल हैं। 17 गंभीर घायलों को इलाज के लिए इंदौर, भोपाल और नर्मदापुरम भेजा गया है।

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने हरदा ब्लास्ट को लेकर आपात बैठक बुलाई। साथ ही मंत्री उदय प्रताप सिंह के साथ वरिष्ठ अधिकारियों को हरदा रवाना होने के निर्देश दिए। मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है। उन्होंने यह भी कहा कि हादसे में मारे गए लोगों के परिवार की जिम्मेदारी सरकार उठाएगी। उनके बच्चों की पढ़ाई-लिखाई का खर्च भी सरकार ही उठाएगी। वहीं, आसपास के सात जिलों से फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस हरदा पहुंच गई हैं। भोपाल से गए अधिकारियों ने भी मोर्चा संभाल लिया है। हरदा हादसे को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने छिंदवाड़ा के प्रवास कार्यक्रम को रद्द कर दिया है।

ब्लास्ट होने का सिलसिला थम नहीं रहा था, जिससे राहत एवं बचाव कार्य प्रभावित हुए। एंबुलेंस से घायलों को अस्पताल पहुंचाया जा रहा है। आग लगने के समय 30 से अधिक मजदूर फैक्टरी में काम कर रहे थे। घायलों और मृतकों में बच्चों और महिलाओं के होने की भी आशंका व्यक्त की जा रही है। शुरुआती जानकारी के अनुसार यह पटाखा फैक्टरी राजू अग्रवाल की है। ब्लास्ट इतने भीषण थे कि आसपास के मकान गिर गए।

प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने जताया दुख : राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी घटना पर दुख जताया है। राष्ट्रपति ने कहा कि हरदा में आग लगने से अनेक लोगों की मृत्यु होने का समाचार अत्यंत दुखद है। मैं शोक संतप्त परिवारों के प्रति गहन संवेदना व्यक्त करती हूं। घायल हुए लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करती हूं। मोदी ने कहा कि जो घायल हुए हैं, उनके जल्द से जल्द सेहतमंद होने की कामना करता हूं। स्थानीय प्रशासन सबको मदद पहुंचा रहा है। प्रधानमंत्री राष्ट्रीय आपदा कोष से प्रत्येक मृतक के रिश्तेदार को दो-दो लाख रुपये और घायलों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता की घोषणा की है।

सड़क किनारे पड़ी हैं लाशें : हादसे के बाद पास की सड़क पर वाहन उछलकर दूर गिर गए। कुछ लोगों की मौत सड़क पर ही हो गई। उनकी लाशें सड़क किनारे पड़ी है। हरदा कलेक्टर ऋषि गर्ग ने मौतों की पुष्टि नहीं की है। उन्होंने कहा कि 20 से 25 लोग घायल हुए हैं। कुछ की हालत गंभीर है। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एनडीआरएफ औऱ एसडीआरएफ की मदद ली जा रही है। हमारा फोकस बचाव एवं राहत कार्यों पर है।

100 से ज्यादा घर खाली कराए : पटाखा फैक्टरी में ब्लास्ट के बाद आसपास के 60 से ज्यादा घरों में आग लग गई। फैक्टरी के आसपास सड़क पर कुछ शव पड़े दिखे हैं। 25 से अधिक घायलों को हरदा जिला अस्पताल ले जाया गया है। प्रशासन ने 100 से ज्यादा घर खाली करवा दिए हैं। धमाके की चपेट से पास की सड़क पर चल रहे वाहन भी कुछ दूरी तक उछल गए। क्षेत्र में अफरा-तफरी का माहौल है। फैक्टरी से उठती आग की लपटें और धुएं का गुबार दूर से देखा जा सकता है।

हरदा से भोपाल के बीच ग्रीन कॉरिडोर : हरदा से भोपाल के बीच ग्रीन कॉरिडोर बनाया है। पटाखा फैक्टरी के घायलों को ग्रीन कॉरिडोर से भोपाल के हमीदिया अस्पताल और एम्स भोपाल लाने की तैयारी है। पटाखा फैक्टरी के विस्फोट में घायल कुछ लोगों को हरदा जिला अस्पताल से भोपाल रेफर किया गया है

खंडवा, नर्मदापुरम से एंबुलेंस रवाना : हादसा इतना बड़ा है कि हरदा जिले की एंबुलेंस कम पड़ गई। नर्मदापुरम, भोपाल, इंदौर और खंडवा समेत सात जिलों से एंबुलेंस हरदा के लिए रवाना हुई। भोपाल और इंदौर के मेडिकल कॉलेजों के साथ ही भोपाल के एम्स और आसपास के जिलों के अस्पतालों को घायलों के इलाज के लिए तैयार रहने को कहा गया है।

मुख्यमंत्री ने की आपात बैठक : मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने हरदा की घटना का संज्ञान लेते हुए मंत्री उदय प्रताप सिंह, एसीएस अजीत केसरी, डीजी होम गार्ड अरविंद कुमार को हेलीकॉप्टर से हरदा जाने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने मंत्रालय में आपात बैठक बुलाई थी। इस दौरान उन्होंने कहा कि घायलों को तत्काल उपचार उपलब्ध कराना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। हरदा के आसपास के क्षेत्र से एंबुलेंस हरदा पहुंचाई जा रही हैं। इसके साथ ही हेलीकॉप्टरों की व्यवस्था के लिए सेना से संपर्क किया गया है।

भोपाल, इंदौर में मेडिकल कॉलेज और एम्भोस पाल में  बर्न यूनिट को तैयारी रखने के निर्देश दे दिए गए हैं। होशंगाबाद में भी अस्पतालों में घायलों के उपचार के लिए व्यवस्था की गई है  होशंगाबाद सहित आसपास के क्षेत्र से 14 डॉक्टर तत्काल रवाना किए गए हैं। हरदा में 20 एम्बुलेंस मौजूद हैं,  तथा 50 और पहुंच रही है। भोपाल इंदौर बैतूल, होशंगाबाद, भेरूंदा, रेहटी सहित अन्य नगरीय निकायों तथा संस्थाओं से फायर ब्रिगेड हरदा भेजे जा रहे हैं। बैठक में मुख्य सचिव वीरा राणा, पुलिस महानिदेशक सुधीर सक्सेना, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान,  प्रमुख सचिव गृह संजय दुबे, प्रमुख सचिन नगरीय प्रशासन एवं विकास नीरज मंडलोई, प्रमुख सचिव सामान्य प्रशासन मनीष रस्तोगी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री राघवेंद्र सिंह तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

जांच के आदेश, गृह सचिव करेंगे जांच : मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि घटना दुखद है। सरकार पूरी मुस्तैदी से बचाव एवं राहत कार्यों में लगी है। प्रति परिवार चार-चार लाख रुपये देने की घोषणा की है। जांच के आदेश दिए गए हैं। गृह सचिव खुद जांच कर मुझे रिपोर्ट सौंपेंगे। इसमें दोषी लोगों को बख्शा नहीं जाएगा।

हरदा विधायक ने की भावुक अपील : हरदा से कांग्रेस विधायक रामकिशोर दोगने ने हादसे पर दुख जताते हुए भावुक अपील की। उन्होंने हरदा की जनता से अपील की कि अपने वाहन लेकर अस्पताल पहुंचे। घायलों को भोपाल या बड़े शहरों में शिफ्ट करने में मदद करें।

बचाव एवं राहत कार्य के लिए समिति गठित : मुख्यमंत्री के निर्देश पर बचाव एवं राहत कार्य के लिए समिति गठित की गई है। समिति का अध्यक्ष अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान को बनाया गया है। उनके अलावा अपर मुख्य सचिव अजीत केसरी, गृह विभाग के प्रमुख सचिव संजय दुबे, नगरीय विकास एवं आवास विभाग के प्रमुख सचिव नीरज मंडलोई, होमगार्ड डीजी अरविंद कुमार और एडीजी आलोक रंजन को भी समिति में रखा गया है।

कांग्रेस ने भी बनाई जांच समिति : हरदा हादसे को लेकर विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष उमंग सिंगार ने हरदा विधायक रामकिशोर दोगने के नेतृत्व में दो सदस्यीय जांच समिति बनाई गई है। इस समिति में टिमरनी विधायक अभिजीत शाह भी शामिल रहेंगे। यह समिति बैरागढ़ मगरधा रोड स्थित फैक्टरी में विस्फोट होने से जन-धन की हानि की जांच करेगी और तीन दिन में अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।

शिवराज, कमलनाथ, पटेल समेत कई नेताओं ने जताया दुख : पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, दिग्विजय सिंह और कमलनाथ, कैबिनेट मंत्री प्रहलाद पटेल, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री राकेश शुक्ला ने हरदा के हादसे पर दुख जताया है।  दिग्विजय सिंह ने सोशल मीडिया पर लिखा कि राज्य शासन सभी का सहयोग लेकर अधिक से अधिक पीड़ित परिवारों को मदद करें। मैं मृतकों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं। घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

NewsXpoz Digital

NewsXpoz Digital ...सच के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *