देश-विदेश

बजट सत्र 2024 : संसद भवन की सुरक्षा में CISF के 140 कर्मियों की टुकड़ी तैनात

नई दिल्ली : 31 जनवरी से शुरू होने वाले बजट सत्र के दौरान आगंतुकों और उनके सामान की जांच के लिए नई व्यवस्था के तहत संसद परिसर में केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के 140 कर्मियों की टुकड़ी तैनात की गई है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पिछले महीने संसद की सुरक्षा में हुई चूक के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था की व्यापक समीक्षा की थी और उसके बाद सीआईएसएफ कर्मियों की तैनाती को मंजूरी दी गई थी।

13 दिसंबर को संसद में कुछ लोगों ने घुसकर वहां कलर स्मोक छोड़ दिया था। सूत्रों ने बताया कि सीआईएसएफ के 140 कर्मियों ने सोमवार को संसद भवन परिसर की सुरक्षा का जिम्मा संभाल लिया। वे आगंतुकों और उनके सामान की तलाशी लेंगे तथा भवन की सुरक्षा का जिम्मा भी संभालेंगे।

हवाई अड्डे जैसी सुरक्षा व्यवस्था होगी : उन्होंने बताया कि यह दल वहां पहले से मौजूद अन्य सुरक्षा एजेंसियों के साथ संसद परिसर का जायजा ले रहा है ताकि 31 जनवरी से अपनी जिम्मेदारी पूरी करने के लिए तैयार हो सके। सीआईएसएफ को नए और पुराने संसद भवन परिसर की सुरक्षा का जिम्मा दिया जाएगा। वहां हवाई अड्डे जैसी सुरक्षा व्यवस्था होगी। व्यक्ति और सामान की जांच एक्स-रे मशीन व मेटल डिटेक्टर से होगी। जूतों, भारी जैकेट और बेल्ट को एक ट्रे में रखकर उनकी एक्स-रे मशीने से जांच करने का भी प्रविधान है।

सहायक कमांडेंट सीआईएसएफ टुकड़ी का प्रमुख होगा : सूत्रों ने बताया कि बल का एक सहायक कमांडेंट (एसी) रैंक का अधिकारी इस सीआईएसएफ टुकड़ी का प्रमुख होगा। इसमें अग्निशमन विंग के 36 कर्मी भी होंगे। सीआईएसएफ में करीब 1.70 लाख कर्मी हैं और यह केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन है। इसके पास देश के 68 नागरिक हवाई अड्डों के अलावा एयरोस्पेस और परमाणु ऊर्जा क्षेत्र से जुड़े अहम प्रतिष्ठानों की सुरक्षा का भी जिम्मा है।

संसदीय स्टाफ नहीं कर सकेगा परिसर के अंदर की फोटोग्राफी-वीडियोग्राफी : संसद भवन के अधिकारियों-कर्मचारियों को संसद भवन परिसर के अंदर तस्वीरें क्लिक करने और वीडियो बनाने के खिलाफ चेतावनी दी गई है क्योंकि सुरक्षा प्रोटोकाल के तहत ऐसी गतिविधियां प्रतिबंधित हैं। जारी सर्कुलर में संसद भवन के कार्यवाहक संयुक्त सचिव (सुरक्षा) ने कहा है कि बार-बार निर्देश के बावजूद देखा गया है कि कुछ अधिकारी-कर्मी प्रोटोकाल का पालन नहीं कर रहे हैं।

इसमें कहा गया है कि संसद परिसर भारत में सबसे संवदेनशील जगह है। कैमरे, जासूसी कैमरे और स्मार्टफोन परिसर की सुरक्षा के लिए सीधा खतरा हैं। इसलिए परिसर के अंदर किसी भी प्रकार की फोटोग्राफी-वीडियोग्राफी सख्त वर्जित है।

NewsXpoz Digital

NewsXpoz Digital ...सच के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *