देश-विदेश

‘बिजली की मांग यूं ही बढ़ी तो आपूर्ति करना होगा मुश्किल’ केंद्रीय मंत्री ने जताई चिंता

नई दिल्ली : केंद्रीय बिजली मंत्री आर के सिंह ने स्वीकार किया है कि बिजली की मांग जिस तरह से पिछले कुछ महीनों के दौरान बढ़ी है, अगर उसी रफ्तार से आगे भी बढ़ती रही तो इतनी ज्यादा मांग का पूरा करने में काफी परेशानी सामने आएगी।

बिजली और नवीन व नवीकरणीय (रिनीवेबल ऊर्जा) मंत्री आर के सिंह सोमवार को रज्यों व केंद्र शासित प्रदेश के बिजली मंत्रियों के साथ देश में बढ़ती बिजली की मांग को पूरा करने की स्थिति पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने बताया कि अगस्त, सितंबर और अक्टूबर, 2023 में बिजली की मांग पिछले साल के मुकाबले 20 फीसदी ज्यादा रही है।

पीक आवर में बिजली की मांग 2.41 लाख मेगावाट तक पहुंच गई है जो वर्ष 20217-18 में 1.9 लाख मेगावाट रहती थी। इसे बहुत बड़ी चुनौती बताते हुए उन्होंने कहा कि, ‘पीक आवर में मांग यूं ही बढ़ती रही तो हम पूरा करने में असमर्थ हो सकते हैं। इस चुनौती से निपटना होगा। बिजली की यह मांग भारतीय इकॉनमी की तेज रफ्तार की वजह से बनी हुई है। इस मांग को पूरा करने में ताप बिजली घरों का उल्लेखनीय योगदान रहा है।

यही वजह है कि बिजली मंत्री सिंह ने यह भी कहा है कि यूएई में जल्द ही होने वाले काप-28 बैठक (पर्यावरण बदलाव पर संयुक्त राष्ट्र का सालाना आयोजन) में कोयला की खपत घटाने पर दवाब बनाया जाएगा लेकिन भारत इस दबाव को नहीं मानेगा। सिंह के मुताबिक, ‘भारत अपनी आर्थिक विकास के साथ कोई समझौता नहीं कर सकता। हमारा साफ तौर पर मानना है कि विकास के लिए कोयला की उपलब्धता जरूरी है और हम इससे समझौता नहीं कर सकते। अगर जरूरत हुई तो हम कोयला आधारित बिजली संयंत्रों की क्षमता भी बढ़ाएंगे।’

Plz Download the App for Latest Updated News : NewsXpoz 

Posted & Updated by : Rajeev Sinha 

NewsXpoz Digital

NewsXpoz Digital ...सच के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *