प्रदेशबिहार-बंगाल एवं ओडिशा

बिहार : एक तरफा प्यार में प्रेमी ने किया था छात्रा के भाई का अपहरण

मुंगेर : बिहार में इन दिनों फिल्मी सीन जैसी सच्चाई बार-बार सामने आ रही है। इस बार झारखंड के धनबाद से ट्रेन पर सवार होकर आ रहे एक लड़के का बिहार घुसने के बाद एक स्टेशन पर अपहरण कर लिया गया और फिरौती के रूप में उसकी बहन की डिमांड की गई। फिरौती सुनकर गांव के लोग एकजुट हो गए। राहत की बात यही रही कि गुस्साए लोगों ने ढूंढ़ते-ढूंढ़ते मुंगेर जिले में ही एक पहाड़ी पर अपहर्ताओं में से दो को दबोच लिया। कहानी सामने आयी कि एकतरफा प्रेम में एक लड़के ने अपहरण की यह तैयारी की और नौ-दस लड़कों को लेकर ट्रेन में इस वारदात को अंजाम दिया।

छोटे स्टेशन पर हुआ यह अपहरण : यह मामला लड़ैयाटांड थाना क्षेत्र के महगामा खजुरिया गांव का है। बताया जाता है कि पास के ही गांव का एक युवक लड़की से एक तरफा प्रेम करता था। लड़की ही नहीं, बल्कि उनके परिजन भी विरोध जता रहे थे। इससे आहत साइको प्रेमी ने धनबाद से घर लौटने के क्रम में डीएमयू ट्रेन से मसूदन रेलवे स्टेशन पर लड़की के भाई का अपहरण कर लिया। यह स्टेशन किउल-जमालपुर रेल खंड पर अभयपुर और धरहरा के बीच में है। अपहर्ता ने अपहृत को छोड़े जाने के एवज में प्रेमिका को एक खास जगह पर भेजने की मांग रखी।

अपहृत ने फोन कर परिजन को बताया कि लड़की को नहीं लाया गया तो अपहर्ता उसकी हत्या कर देगा। घटना को अंजाम देने मे आठ से दस युवक शामिल थे। इनमें अपहृत का एक पड़ोसी भी शामिल है। अपहरण की जानकारी मिलते ही परिजनों ने इसकी सूचना स्थानीय पुलिस और रेल पुलिस को दी। इधर इलाके के लोग भी ढूंढ़ने लगे।

मोबाइल लोकेशन के आधार पर पुलिस लखीसराय जिला के कजरा थाना क्षेत्र लखना गांव में एक घर में गांव के कई लोगों के साथ पहुंची। जिन लोगों ने पहले अपहृत आदित्य राज को देखा, उसने उसे खींचने की कोशिश की। लेकिन, फिर हथियार देखकर लोग पीछे हो गए। इसके बाद घेरकर तीन लड़कों को लोगों ने पकड़ा और जमकर पीटा। तीनों ने अपराध स्वीकार किया और अपने साथियों के रूप में पांच का नाम-पता बताया। साइको प्रेमी मुंगेर जिला के धरहरा थाना क्षेत्र के गोविंदपुर गांव निवासी सूरज साह का पुत्र नीतीश कुमार है।

उसने इस कांड में सहयोग देने वाले बाकी साथियों का नाम-पता बता दिया है। उसके पास से एक देसी कट्टा पुलिस ने बरामद कर लिया है। मामला चूंकि ट्रेन से अपहरण का है, इसलिए परिजनों के साथ आदित्य राज जीआरपी जमालपुर में केस दर्ज कराने पहुंचा। यहां उसने बताया कि नीतीश ने उसे कहा था कि अपनी बहन से बात कराओ और पांच लाख रुपये दो।

उसकी मां ने बताया कि अपराधी उससे फिरौती के रूप में उसकी बेटी मांग रहा था, इसलिए उसने पुलिस की मदद ली। पुलिस ने मोबाइल लोकेशन के आधार पर मदद की और अब राजकीय रेल पुलिस इस अपहरण की जांच करते हुए अपराधियों को सजा दिलाए।

NewsXpoz Digital

NewsXpoz Digital ...सच के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *