Xpoz-स्पेशलधनबाद-झारखंडबिहार-बंगाल एवं ओडिशायूपी एवं उत्तराखंड

सावधान! श्रीराम मंदिर के नाम पर जालसाज एक्टिव, VVIP दर्शन के झांसे से बचे

धनबाद-NewsXpoz (राजीव सिन्हा 8340201239) : उत्तर प्रदेश के अयोध्या धाम (Ayodhya-Scam) में रामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा 22 जनवरी, 2024 को होनी है। श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या पर 70 एकड़ जमीन पर प्रभु श्री राम का भव्य मंदिर बनाया गया है। मंदिर के उद्घाटन का काउंटडाउन शुरू हो चुका है। राम मंदिर के उद्घाटन की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं।

इन सबों के बीच अराजक और अपराधी तत्व भी सक्रिय हो गए हैं। ऐसे अपराधी तत्व इस अंतर्राष्ट्रीय आयोजन के मौके पर श्री राम भक्तों को ठगने की साजिश में जूट गए हैं। जिसके खिलाफ देश भर में पुलिस और सुरक्षा एजेंसी मोर्चा ली हुई है। कई स्थानों से ऐसे अराजकतत्व और जालसाज गिरफ्तार भी हो चुके हैं।


NewsXpoz पर ताजा खबर देखें-पढ़ें और सुने…

इसी कड़ी में साइबर ठगों ने एक नया तरीका ईजाद किया हुआ है। जिससे श्री राम भक्तों को ठगा जा सके। जालसाज (Ayodhya-Scam) भगवान श्रीराम के वीवीआईपी दर्शन कराने का झांसा देकर देशभर में रामजन्म भूमि गृह संपर्क अभियान नामक एप्लीकेशन (एपीके) डाउनलोड कराते हैं। उसके बाद बैंक खातों को खाली कर देते हैं। गृह मंत्रालय ने ठगी की इस वारदातों को देखते हुए देश भर में एडवाइजरी जारी की है। लोगों को जागरूक करने के लिए एक वीडियो भी जारी किया है।

दान और वीआईपी एंट्री के नाम पर ठगी : साइबर ठग लोगों से भगवान राम मंदिर (Ayodhya-Scam) के अलग-अलग पिलर, मूर्ति के लिए डोनेशन का पैसा मांगते हैं. ये ठग सोशल मीडिया पर तरह तरह के लिंक और विज्ञापन डाल रहे हैं. इन लिंक में क्यूआर कोड स्कैन करने के लिए कहा जाता है. इसके बाद दान मांगा जाता है.

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अयोध्या में भगवान श्रीराम के मंदिर का 22 जनवरी को उद्घाटन होना है। जनवरी के शुरुआती सप्ताह से जालसाजों (Ayodhya-Scam) ने श्री राम मंदिर के नाम पर ठगी करना शुरू कर दिया है। जालसाज देशभर में लोगों को खासकर हिंदुओं को श्री राम जन्म भूमि अभियान नाम की एंड्रॉयड पैकेज किट (एपीके) भेज रहे हैं।

लोगों से श्री राम मंदिर में वीआईपी एंट्री या फिर वीआईपी दर्शन कराने की बात कह रहे हैं। भगवान श्रीराम के भक्त जैसे ही इस एपीके को डाउनलोड करते है तो उनके मोबाइल का एक्सेस आरोपियों के पास चला जाता है। इसके बाद कुछ मिनटों में बैंक खाता खाली कर दिया जाता है।

सोशल मीडिया पर श्री राम के नाम पर साइबर ठगों का गैंग सक्रिय : ये गैंग श्री राम के नाम पर जनता को ठग रहा है। ऐसे सक्रिय गैंग के लोगों को पुलिस सोशल मीडिया पर चिन्हित करती नजर आ रही है पुलिस लगातार सोशल मीडिया पर निगरानी कर रही है। लेकिन अब ठगी करने वाले गिरोह ने ठगी का नया फार्मूला तैयार कर लिया है। ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जहां पर अयोध्या, श्रीराम के मंदिर और उनकी प्राण प्रतिष्ठा के नाम पर सोशल मीडिया पर अकाउंट बनाए जा रहे हैं। इन अकाउंट के जरिए लोगों से पैसे मांगे जा रहे हैं। फर्जी क्यूआर कोड शेयर करके भी दर्शन कराने के नाम पर लोगों को ठगा जा रहा है।

राम मंदिर में VIP एंट्री का आए मैसेज तो हो जाएं अलर्ट : श्री राम मंदिर (Ayodhya-Scam) में दर्शन के लिए VVIP या VIP एंट्री के नाम पर ठगी होनी शुरू हो गई है। WhatsApp पर लोगों को अनजान नंबर से मैसेज भेजा जा रहा है। इस मैसेज में लिखा दिखेगा कि आप लकी हैं और आपको वीआईपी एंट्री मिलती है। लाखों लोगों को आने वाला ये मैसेज एक स्कैम है।

22 जनवरी का दिन बेहद ही खास है और ठगी करने वाले इसी दिन लोगों को VIP दर्शन करने का झांसा दे रहे हैं। व्हाट्सएप पर तीन मैसेज आ रहे हैं, पहले मैसेज में श्री रामजन्मभूमी गृह संपर्क अभियान.APK लिखा दिख रहा है। ध्यान देने वाली बात यहां पर यह है कि ये मैसेज नहीं बल्कि APK फाइल है। भूल से भी इस फाइल पर क्लिक करने की भूल न करें।

दूसरे मैसेज में आपको लिखा नजर आएगा… Install रामजन्मभूमी गृह संपर्क अभियान to get VIP Access. इसके अलावा तीसरे मैसेज में लिखा होगा कि बधाई हो, आप लकी है। आपको 22 जनवरी के लिए राम मंदिर में दर्शन के लिए VIP एक्सेस मिलता है।

कुल मिलाकर ठगी करने वाले जालसाज इस तरह के मैसेज लोगों को भेज Scam कर रहे हैं। अगर आप एपीके फाइल पर गलती से भी क्लिक कर देते हैं तो आपका फोन हैक हो सकता है और बैंक अकाउंट भी खाली हो सकता है। ये मैसेज तेजी से वायरल हो रहा है।

ऐसी गलती को करने से बचें व सावधान रहें :

  • पहली गलती, अगर आपको भी अगर ऐसा कोई भी मैसेज आता है तो आप लोगों को सबसे पहले तो मैसेज में दिए गए किसी भी लिंक पर क्लिक करने की गलती नहीं करनी है।
  • दूसरी गलती, ऐसे किसी भी मैसेज को आगे किसी को भी फॉरवर्ड नहीं करना है।
  • तीसरा काम, अयोध्या में राम मंदिर के नाम पर आए ऐसे किसी भी मैसेज को तुरंत रिपोर्ट कर ब्लॉक कर दें।
  • रिपोर्ट करने के लिए आपको चैट बॉक्स में ऊपर की तरफ राइट साइड में थ्री डॉट मैन्यू पर टैप करना है। इसके बाद आपको More ऑप्शन पर क्लिक करना है। यहां आपको रिपोर्ट ऑप्शन नजर आ जाएगा।

जागरूकता के लिए जारी हुआ वीडियो : देशभर में साइबर अपराध को रोकने के लिए गृह मंत्रालय के तहत बनाए गए भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र (आई4सी) ने इस जालसाजी से लोगों को बचाने व जागरूक करने के लिए एक वीडियो जारी की है। इस वीडियो में एक युवक कहता है कि उसे वाट्सएप पर 22 जनवरी को होने वाले राम मंदिर के उद्घाटन का वीआईपी एक्सेस मिला है। इस पर दूसरा युवक उससे पूछता है कि उसे कैसे मिला। पहला युवक कहता है कि व्हाट्सएप पर मिला है। फिर दूसरा युवक कहता है कि श्री राम मंदिर के उद्घाटन से पहले ही वीआईपी एक्सेस (Ayodhya-Scam) मिल गया। फिर दूसरा युवक बताता है कि श्री राम के नाम पर देश में बड़ा स्कैम हो रहा है। इस एपीके की वजह से उसका मोबाइल व बैंक अकाउंट हैक हो सकता है।

वीडियो में बताया गया कि वाट्सएप पर एक मैसेज तेजी से वायरल हो रहा है। इस मैसेज में कहा जा रहा है कि श्री राम जन्मभूमि गृह संपर्क अभियान एपीके डाउनलोड करो। इस मैसेज को राम भक्त या हिंदू परिवारों में उनकी ओर से भेजा रहा है। इस एप्लीकेशन को डाउनलोड करते ही मोबाइल हैंग हो जाएगा और मोबाइल पर काफी संख्या में विज्ञापन आएंगे। ऐसे में आई4सी ने लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी है। आई4सी ने इस वीडियो को पूरे देश में सभी राज्यों की पुलिस को भेजा है।

श्री राम मंदिर : अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि के स्थान पर श्री राम मंदिर बनाया जा रहा एक हिन्दू मन्दिर है। जहाँ मान्यताओं के अनुसार, हिन्दू धर्म के भगवान विष्णु के अवतार भगवान श्रीराम का जन्म स्थान है। मंदिर निर्माण की पर्यवेक्षण श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र कर रहा है। 5 अगस्त 2020 को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भूमिपूजन अनुष्ठान किया गया था और मंदिर का निर्माण आरम्भ हुआ था।

राम मंदिर की पूजन प्रक्रिया 16 जनवरी से ही शुरू हो जाएगी। राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा की पूजा देशभर के 121 पंडित द्वारा संपन्न होगी। पूजा पाठ के लिए राम मंदिर प्रांगण में 2 मंडप और 9 हवन कुंड बनाए जाएंगे। प्रत्येक कुंड से विशेष महत्व और उद्देश्य जुड़ा है। राम मंदिर में मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा के लिए तैयार किए गए हवन कुंडों को ईंट, बालू मिट्‌टी, गोबर, पंचगव्य और सीमेंट आदि सामग्रियों से तैयार किए जा रहे हैं।

श्री राम जन्मभूमि का इतिहास : हरि विष्णु के एक अवतार माने जाने वाले राम एक व्यापक रूप से पूजे जाने वाले हिन्दू राजा हैं। प्राचीन भारतीय महाकाव्य, रामायण के अनुसार, राम का जन्म अयोध्या में हुआ था। इसे राम जन्मभूमि या राम की जन्मभूमि के रूप में जाना जाता है। 15 वीं शताब्दी में, मुगलों ने श्री राम जन्मभूमि पर बाबरी मस्जिद का निर्माण किया। हिन्दुओं का मानना है कि मस्जिद का निर्माण एक हिन्दू मंदिर को खंडित करने के बाद किया गया था।

NewsXpoz Digital

NewsXpoz Digital ...सच के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *