देश-विदेश

Video : भारतीय नौसेना को पाकिस्तानी और ईरानी क्रू ने दिया धन्यवाद

नई दिल्ली-NewsXpoz : सोमाली समुद्री डाकुओं से बचाने के लिए पाकिस्तानी और ईरानी क्रू ने भारतीय नौसेना को धन्यवाद दिया है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर साझा किए गए वीडियो में पाकिस्तानी और ईरानी दल के एक सदस्य ने कहा, हमें सोमाली समुद्री लुटेरों ने पकड़ लिया था। तभी भारतीय नौसेना वहां आ गई। उन्हें देखकर सोमाली समुद्री डाकू डर गए और अपने हथियार फेंक दिए। हमारी जान बचाने के लिए भारतीय नौसेना को धन्यवाद।

इस बीच भारतीय नौसेना के प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय नौसेना हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। उल्लेखनीय है कि भारतीय नौसेना के युद्धपोत आईएनएस सुमित्रा ने सोमवार को सोमालिया के पूर्वी तट पर ईरानी ध्वज वाले जहाज अल नईमी पर समुद्री डकैती के प्रयास को विफल करके 19 पाकिस्तानी नागरिकों को सफलतापूर्वक बचाया था। भारतीय नौसेना ने सोमाली समुद्री डाकुओं के खिलाफ अभियान का वीडियो जारी किया है, जिसमें बताया गया है कि नौसेना ने कैसे जहाज के चालक दल के सदस्यों को बचाया और सोमाली डाकुओं को हिरासत में ले लिया।

भारतीय नौसेना के अनुसार, बचाव अभियान के दौरान युद्धपोत आईएनएस सुमित्रा से चेतावनी फायरिंग की गई। भारतीय नौसेना द्वारा एक्स पर साझा किए गए वीडियो में निहत्थे समुद्री डाकू दिखाई दे रहे हैं। भारतीय नौसेना के प्रवक्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए नौसेना हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। हिंद महासागर क्षेत्र में तैनात भारतीय नौसेना के युद्धपोत सभी समुद्री खतरों के खिलाफ सुरक्षा सुनिश्चित कर रहे हैं, जिससे हमारे समुद्र सभी देशों के नाविकों के लिए सुरक्षित हैं।

28 जनवरी को जहाज के अपहरण को लेकर मिला था आपात संदेश : भारतीय नौसेना के युद्धपोत आईएनएस सुमित्रा ने सोमवार को सोमालिया के पूर्वी तट पर ईरानी ध्वज वाले जहाज पर डकैती की कोशिश को विफल करने के साथ 19 पाकिस्तानी नागरिकों को सुरक्षित बचाया था। यह मछली पकड़ने वाला जहाज था। भारतीय नौसेना के स्वदेशी गश्ती जहाज आईएनएस सुमित्रा को सोमालिया के पूर्व और अदन की खाड़ी में समुद्री सुरक्षा अभियानों के लिए तैनात किया गया है। 28 जनवरी को युद्धपोत ने एक ईरानी ध्वज वाले मछली पकड़ने वाले जहाज (एफवी) के अपहरण के संबंध में एक आपात संदेश का जवाब दिया था, जिस पर समुद्री डाकू ने चालक दल को बंधक बना लिया गया था।

आईएनएस सुमित्रा ने कार्रवाई करते हुए जहाज को रोक लिया और एसओपी का पालन करते हुए 17 ईरानी चालक दल को 29 जनवरी की सुबह में सुरक्षित बचा लिया गया था। जहाज को समुद्री डाकुओं से मुक्त कराने के बाद आगे के पारगमन के लिए छोड़ दिया गया था।

NewsXpoz Digital

NewsXpoz Digital ...सच के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *